बरसै बुंदिया सावन की

[quads id = “2”]

बरसै बुंदिया सावन की (Barse Boondiyan Sawan Ki bhajan in hindi mp3)

बरसै बुंदिया सावन की

सावन की मनभावन की।

सावन में उमग्यो मेरो मनवा

भनक सुनी हरि आवन की।

उमड़ घुमड़ चहुं दिसि से आयो

[quads id = “3”]

दामण दमके झर लावन की।

नन्हीं नन्हीं बूंदन मेहा बरसै

सीतल पवन सोहावन की।

मीराके प्रभु गिरधर नागर

आनंद मंगल गावन की।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *