दरस बिन दूखण लागे नैन

12

दरस बिन दूखण लागे नैन (Daras bin dukhan lagye nena bhajan in hindi Mp3)

दरस बिन दूखण लागे नैन।

जबसे तुम बिछुड़े प्रभु मोरे कबहुं न पायो चैन।

सबद सुणत मेरी छतियां कांपै मीठे लागै बैन।

बिरह व्यथा कांसू कहूं सजनी बह ग करवत ऐन।

कल न परत पल हरि मग जोवत भ छमासी रैन।

मीरा के प्रभु कब रे मिलोगे दुख मेटण सुख देन।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here