Krishna Bhajan

दीनानाथ अब बारी तुम्हारी, पतित उधारण दीन – Dinanath Ab Bari Tumahari

दीनानाथ अब बारी तुम्हारी – Dinanath Ab Bari Tumahari Mp3 Download & Lyrics Pdf

Dinanath Ab Bari Tumahari Lyrics 

दीनानाथ अब बारी तुम्हारी
पतित उधारण दीन जानी के बिगड़ी देहु संवारी
बालापन खेलत ही खोया यौवन विसरत मोहि
वृद्धः भयो सुधि प्रगटि मोको
दुखित पुकारत तोहि
दीनानाथ अब बारी तुम्हारी

नारी तजो सूत तजो भाई तजो
तन की त्वचा भई न्यारी
श्रवणं न सुनत चरण गति धारी
नैन भये जलधारी
दीनानाथ अब बारी तुम्हारी

अब ये व्यथा दूर करने को
और न समरथ कोई
सूरदास प्रभु करुणा सागर
तुमसे होइ सो होइ
दीनानाथ अब बारी तुम्हारी
पतित उधारण दीन जानी के बिगड़ी देहु संवारी

About the author

Lyricsbug

Lyricsbug.in is platform for Devotional music lovers where you can get Latest Krishna Bhajan, Shiv Bhajan, Hanuman Bhajan, Aarti & Chalisa lyrics with Many More Hindu God & Goddess Bhajans in vast range .

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?