दुःख में मत घबराना पंछी, ये जग दुःख का मेला है …

223

दुःख में मत घबराना पंछी भजन-Dukh Me Mat Ghabrana Mp3 Song Download

Dukh Me Mat Ghabrana Lyrics

दुःख में मत घबराना पंछी
दुःख में मत घबराना पंछी

ये जग दुःख का मेला है
ये जग दुःख का मेला है

नन्हे कोमल पंख ये तेरे
और गगन की ये दुरी
बैठ गया तो कैसे होगी
मन की अभिलाषा पूरी

Convert To Pdf & Download 

उसका नाम अमर है जग में
जिसने संकर झेला है
चाहे भीड़ बड़ी अम्बर पर
उड़ना तुझे अकेला है

चतुर शिकारी ने रक्खा है
जल बिछा कर पग पग पर
फस मत भूल से पगले
पछतायेगा जीवन भर

मोह माया में तू मत फसना
बड़ा समझ का खेला है
चाहे भीड़ बड़ी अम्बर पर
उड़ना तुझे अकेला है

जब तक सूरज आसमान पर
बढ़ता चल तू बढ़ता चल
घिर जायेगा अंधकार
बड़ा कठिन होगा पल पल

किसे पता की उड़ जाने की
आज़ादी कब बेला है
चाहे भीड़ बड़ी अम्बर पर
उड़ना तुझे अकेला है

दुःख में मत घबराना पंछी
दुःख में मत घबराना पंछी
ये जग दुःख का मेला है
चाहे भीड़ बड़ी अम्बर पर
उड़ना तुझे अकेला है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here