आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं – Janani Maa Aarti

740
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं – Jag Janani Mata Aarti download

Maa Jag Janani Jai Jai Aarti – माँ जगजननी सारे पापो को हरने वाली है माता अपने भक्तो के सारे कष्ट दूर करती है ,माता अपने भक्तो के सब संकट हरती है ,एसी माँ जगजननी की हमें पूजा अर्चना और आरती नित्य प्रतिदिन करना चाहिए आइये माँ जगजननी की आरती करते है… (Maa Jag Janani Aarti)

आरती जगजननी की  – Jag Janani Maa Durga Aarti Lyrics

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं।
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं।

तुम बिन कौन सुने वरदाती।
किस को जाकर विनय सुनाऊं।
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं।
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं।

असुरों ने देवों को सताया।
तुमने रूप धरा महामाया।
उसी रूप का मैं दर्शन चाहूँ॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

रक्तबीज मधु कैटभ मारे।
अपने भक्तों के काज सँवारे।
मैं भी तेरा दास कहाऊं॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

आरती तेरी करू वरदाती।
हृदय का दीपक, नैयनो की बाति।
निसदिन प्रेम की ज्योति जगाऊं॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

ध्यानु भक्त तुमरा यश गाया।
जिस ध्याया माता, फल पाया।
मैं भी दर तेरे सीस झुकाऊं॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

आरती तेरी जो कोई गावे।
चमन सभी सुख सम्पति पावे।
मैया चरण कमल रज चाहूँ॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

तुम बिन कौन सुने वरदाती।
किस को जाकर विनय सुनाऊं॥

आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं
आरती जगजननी मैं तेरी गाऊं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here