राम कृष्ण कहिये उठि भोर

54

राम कृष्ण कहिये उठि भोर भजन – Ram Krishan Kahiye Uthi Bhore 

Ram Krishan Kahiye Uthi Bhore Bhajan Lyrics

हे राम, राम,

राम राम राम,

मेरे राम, मेरे राम

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम

राम

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

अवध ईश ये धनुष धरे हैं

वो बृज माखन चोर

अवध ईश ये धनुष धरे हैं

वो बृज माखन चोर

राम, हरे राम राम राम राम

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

इनके छत्र चंवर सिंघासन

इनके छत्र चंवर सिंघासन

भरत शत्रुहन लक्ष्मण जोर

भरत शत्रुघन लछमन जोर

उनके लकुट मुकुट पीताम्बर

उनके लकुट मुकुट पीताम्बर

नित गैयन संग नंदकिसोर

नित गैयन संग नंदकिसोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

उठि भोर

उठि भोर

इन सागर में शिला तराई

इन सागर में सिला तराई

अरे, उन राख्यो गिरि नख की  कोर

उन राख्यो गिरि

उन राख्यो गिरि नख की कोर

‘नंददास’ प्रभु सब तज भजिये

‘नंददास’ प्रभु सब तज भजिये

जैसे, जैसे  निरखत  चंद्र चकोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम कृष्ण कहिये उठि भोर

राम हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे .

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे ..

हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे .

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे ..

हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे .

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे ..

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here