Krishna Bhajan

रे माखन री चोरी छोड़ कन्हैया

रे माखन री चोरी छोड़ भजन-Re Makhan Re Chori Chod Mp3 Download

Re Makhan Re Chori Chod Lyrics

रे माखन री चोरी छोड़ कन्हैया मै समझाऊ तोय
मै तो जान्यो गयो गैय्यन के संग में , रह्यो खिड़की पर सोय ,
कोऊ एक ग्वारिन ने पतरायो , दई कम्बलिया खोय ,
रे माखन री चोरी ………..||1||

नव लाख धेनु बाबा नन्द घर दूजे ,
नितन नयो माखन होय ,
बड़ो नोम थारे नन्द बाबा रो हंसी हमारी होय ||
रे माखन री चोरी ………..||2||

बरसाने में तो थारी हुई रे सगाई लाला नित नई चर्चा होय
बड़े गरोने री राज दुलारी नहीं बारगी तोय
रे माखन री चोरी ………..||3||

घेवर बनिये रे कुर सांकरी नित नई लीला होई |
मार्ग सखी रो घेर लीनो दई मटकिया फोड़ , रे माखन ||4||

आ चोरी तो नहीं छुटे मारी माता होनी होवे सोई होय ,
सूरदास जसोमत के आगे दियो नयन भर रॉय
रे माखन री चोरी छोड़ , सांवरा में समजाऊ तोय ||

About the author

Lyricsbug

Lyricsbug.in is platform for Devotional music lovers where you can get Latest Krishna Bhajan, Shiv Bhajan, Hanuman Bhajan, Aarti & Chalisa lyrics with Many More Hindu God & Goddess Bhajans in vast range .

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?