संकटमोचन हनुमानाष्टक : कंठस्थ करने से नहीं लगेगा किसी का भय होंगे पुरे बिगड़े काम

81

हनुमानाष्टक – Hanuman Ashtak

Sankat Mochan Hanuman Ashtak – यही कारण है कि हर संकट की काट के लिए हनुमान उपासना का महत्व बताया गया है। संकटमोचन की कामना से ही श्री हनुमान स्मरण के लिए सबसे आसान और असरदार स्तुति है (Sankat Mochan in Hindi) संकटमोचन हनुमान अष्टक। यह ऐसा पाठ है (Sankat Mochan Hanuman Lyrics) जिसमें हनुमान की शक्तियों और गुणों का भाव भरा स्मरण और गुणगान है, जिससे ग्रहदोष शांति भी होती है।

संकटमोचन हनुमानाष्टक – Sankat Mochan Hanuman Lyrics

बाल समय रवि भक्ष लियो तब, तीनहुं लोक भयो अँधियारो।
ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो
देवन आनि करी विनती तब, छांड़ि दियो रवि कष्ट निहारो।
को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥1॥

बालि की त्रास कपीस बसै गिरि, जात महाप्रभु पंथ निहारो॥
चौंकि महामुनि शाप दियो तब, चाहिये कौन विचार विचारो।
कै द्घिज रुप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के शोक निवारो॥2॥

अंगद के संग लेन गए सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो।
जीवत न बचिहों हम सों जु, बिना सुधि लाए इहां पगु धारो।
हेरि थके तट सिंधु सबै तब, लाय सिया सुधि प्राण उबारो॥3॥

रावण त्रास दई सिय को तब, राक्षसि सों कहि सोक निवारो।
ताहि समय हनुमान महाप्रभु, जाय महा रजनीचर मारो।
चाहत सीय अशोक सों आगि सु, दे प्रभु मुद्रिका सोक निवारो॥4॥

बाण लग्यो उर लक्ष्मण के तब, प्राण तजे सुत रावण मारो।
लै गृह वैघ सुषेन समेत, तबै गिरि द्रोण सु-बीर उपारो।
आनि संजीवनी हाथ दई तब, लक्ष्मण के तुम प्राण उबारो॥5॥

रावण युद्घ अजान कियो तब, नाग की फांस सबै सिरडारो।
श्री रघुनाथ समेत सबै दल, मोह भयो यह संकट भारो।
आनि खगेस तबै हनुमान जु, बन्धन काटि सुत्रास निवारो॥6॥

बन्धु समेत जबै अहिरावण, लै रघुनाथ पाताल सिधारो।
देवहिं पूजि भली विधि सों बलि, देउ सबै मिलि मंत्र विचारो।
जाय सहाय भयो तबही, अहिरावण सैन्य समैत संहारो॥7॥

काज किये बड़ देवन के तुम, वीर महाप्रभु देखि विचारो।
कौन सो संकट मोर गरीब को, जो तुमसो नहिं जात है टारो।
बेगि हरौ हनुमान महाप्रभु, जो कछु संकट होय हमारो॥8॥

लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।
बज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here