ॐ शिव हरी शंकर गौरीशम वन्दे गंगा धरनी शम – पूर्ण आरती

ॐ शिव हरी शंकर गौरीशम – Shiv ji ki Aarti Mp3 Song Download

Shiv ji ki Aarti – भगवन शंकर तो भोलेनाथ है वे तो केवल भक्तों के भाव से ही प्रसन्न हो जाते है (Shiv ji ki Aarti in Hindi) प्रतिदिन पूजा-अर्चना करने के बाद भगवान शिव की आरती जरूर करें (Mahadev ji ki Aarti) इससे आपके परिवार पर भगवन शंकर की कृपा बनी रहेगी.

शिव जी की आरती – Shiv ji ki Aarti Lyrics

ॐ शिव हरी शंकर गौरीशम
वन्दे गंगा धरनी शम
शिव रुद्रम पशुपति मिशानम
कलिहर काशी पुर नाथम
भज पर लोचन परमानंदा
नीलकंठ तुम शरणम्
भज असुर निकंदम भव दुःख भंजन
सेवक के प्रतिपाला

ॐ आवागमन मिटावो शंकर भज शिव बारम्बार
त्वमेव माता श्च पिता त्व्मेश
त्वमेव विध्या द्रवीडम त्वमेव
त्वमेव सर्व मम देव देवं
करारविन्देन पदार्विन्दम , मुखारविन्दे विनिवेश्यनतम
वत्स्य पत्रस्य पुट्टे स्यान , बाल मुकुन्दं मनसा स्मरामि
आव तो हरी ॐ बोलो जावे तो हरी ॐ बोलो
सुबह और शाम बोलो नेम से हरी ॐ बोले रे प्रेम से

हरी ॐ बोलो बोलो ॐ ॐ ॐ

Leave a Comment