श्री गणेशा देवा श्री गणेशा देवा …

देवा श्री गणेशा देवा – Deva Shree Ganesha Deva Mp3 Download

देवा श्री गणेशा देवा श्री गणेशा
ज्वाला सी जलती है आँखो मे जिसके भी
दिल मे तेरा नाम है
पर्वा ही क्या उसका आरंभ कैसा है
और कैसा परिणाम है
धरती अंबर सितारे, उसकी नज़रे उतारे
डर भी उससे डरा रे, जिसकी रखवालिया रे
करता साया तेरा हे देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा….

तेरी भक्ति तो वरदान है, जो कमाए वो धनवान है
बिन किनारे की कश्ती है वो देवा तुझसे जो अन्जान है
यूँ तो मूषक सवारी तेरी, सब पे है पहेरेदारी तेरी
पाप की आँधिया लाख हो, कभी ज्योती ना हारी तेरी
अपनी तकदीर का वो खुद सिकंदर हुआ रे
भूल के ये जहां रे, जिस किसी ने यहाँ रे
साथ पाया तेरा
हे देवा श्री गणेशा….

तेरी धूलि का टीका किए, देवा जो भक्त तेरा जिए
उसे अमृत का है मोह क्या, हँस के विष का वो प्याला पिए
तेरी महिमा की छाया तले, काल के रथ का पहिया चले
एक चिंगारी प्रतिशोध से खड़ी रावण की लंका जले
शत्रुओं की कतारें एक अकेले से हारे
कण भी परबत हुआ रे, श्लोक बन के जहाँ रे
नाम आया तेरा
हे देवा श्री गणेशा….

गणपति बप्पा मोरया

Leave a Comment