श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी – Shri Krishna Govind Hare Murari

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी – Shri Krishna Govind Hare Murari 

Shri Krishna Govind Hare Murari – यह महा मन्त्र है । इसमें अन्तर्निहित अर्थ के ज्ञान सहित इसका जाप करना चहिये (Shri Krishna Govind Hare Murari Hey Nath Narayan Vasudeva) “अर्थात : “हे आकर्षक तत्व मेरे प्रभो, इन्द्रियों को वशीभूत करो, दुःखों का हरण करो, (Shri Krishna Govind Hare Murari Lyrics) समस्त बुराईयों का बध करो, मैं सेवक हूँ आप स्वामी, मैं जीव हूं आप ब्रह्म, प्रभो ! मेरे प्राणों के आप रक्षक हैं।

Shri Krishna Govind Hare Murari Lyrics

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी
हे नाथ नारायण वासुदेवा॥ हे नाथ नारायण…॥
एक मात स्वामी सखा हमारे
हे नाथ नारायण वासुदेवा॥ हे नाथ नारायण…॥
॥ श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी…॥

बंदी गृह के तुम अवतारी
कही जन्मे कही पले मुरारी
किसी के जाये किसी के कहाये
है अद्भुद हर बात तिहारी॥ है अद्भुद…॥
गोकुल में चमके मथुरा के तारे
हे नाथ नारायण वासुदेवा॥
॥ श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी…॥

अधर पे बंशी ह्रदय में राधे
बट गए दोनों में आधे आधे
हे राधा नागर हे भक्त वत्सल
सदैव भक्तों के काम साधे॥ सदैव भक्तों…॥
वही गए वही गए वही गए
जहा गए पुकारे
हे नाथ नारायण वासुदेवा॥
॥ श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी…॥

गीता में उपदेश सुनाया
धर्म युद्ध को धर्म बताया
कर्म तू कर मत रख फल की इच्छा
यह सन्देश तुम्ही से पाया
अमर है गीता के बोल सारे
हे नाथ नारायण वासुदेवा॥
॥ श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी…॥

त्वमेव माता च पिता त्वमेव
त्वमेव बंधू सखा त्वमेव
त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव
त्वमेव सर्वं मम देव देवा
॥ श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी…॥

राधे कृष्णा राधे कृष्णा राधे राधे कृष्णा कृष्णा॥
राधे कृष्णा राधे कृष्णा राधे राधे कृष्णा कृष्णा॥

हरी बोल, हरी बोल, हरी बोल, हरी बोल॥

राधे कृष्णा राधे कृष्णा राधे राधे कृष्णा कृष्णा
राधे कृष्णा राधे कृष्णा राधे राधे कृष्णा कृष्णा॥

Shri Krishna Govind Hare Murari Video

Leave a Comment