यमुना जी की आरती – Yamuna Ji Ki Aarti

55

 यमुना जी की आरती (Yamuna ji ki Aarti Download)

Yamuna Ji Ki Aarti – भाई दूज पर यमुना माता की आरती उतारी जाती है। यमुना जी की आरती पढ़ने या सुनने मात्र से ही भगवान श्री कृष्ण जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

यमुना जी की आरती – Yamuna ji ki Aarti

ऊँ जै यमुना माता , हरि ऊँ जै यमुना माता , नो नहावे फल पावे सुख सुख की दाता ।

ऊँ जै यमुना माता…………………………

पवन श्री यमुना जल शीतल अगम बहै धारा , जो जन शरण से कर दिया निस्तारा ।

ऊँ जै यमुना माता…………………………

जो जन प्रातः ही उठकर नित्य स्नान करे , यम के त्रास न पावे जो नित्य ध्यान करे ।

ऊँ जै यमुना माता………………………….

कलिकाल में महिमा तुम्हारी अटल रही , तुम्हारा बड़ा महातम चारों वेद कही ।

ऊँ जै यमुना माता…………………………

आन तुम्हारे माता प्रभु अवतार लियो , नित्य निर्मल जल पीकर कंस को मार दियो ।

ऊँ जै यमुना माता…………………………

नमो मात भय हरणी शुभ मंगल करणी , मन ‘बेचैन ’ भया है तुम बिन वैतरणी ।

ऊँ जै यमुना माता…………………………

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here